Wednesday, December 14, 2016

मर्दानगी बढ़ाने, नपुंसकता दूर करने के उपाय

  • चने से नपुंसकता समाप्त करने के लिए रात को एक कटोरी में थोड़े चने भिगोकर रख दें और सुबह उन भीगे हुए चने के पानी में दो चम्मच शहद मिलाकर पिया जाए तो इस प्रयोग से सालों पुरानी नपुंसकता खत्म हो जाती है और मैथुन शक्ति में भी बढ़ोतरी होती है. इस प्रयोग को कम से कम आपको ६० दिन नियमित रूप से करना पड़ेगा.
  • अगर वीर्य पतला है या कम बनता है तो इसको आप चने के प्रयोग से दूर कर सकते हैं अगर आपका शरीर कमजोर है तो निश्चित रुप से अपनी स्तभ्न शक्ति कमजोर होती है और साथ में वीर्य की कमी भी होती है तो इस तरह के लोगों को एक चीनी के बर्तन में रात में चने भिगोकर रख दें और फिर इन चनों को सुबह उठकर अच्छी तरह से चबा चबाकर खाएं. चने आपको अपनी पाचन शक्ति के अनुसार ही खाने हैं मतलब कि जितना आप से हो सके और उसके बाद आप जिस चीनी के बर्तन में आप ने चने भिगोये थे उस पानी को भी ऊपर से पी लें. इस तरह का प्रयोग आपको लगभग 4 सप्ताह तक करना पड़ेगा

  • शारीरिक दुर्बलता में चने का प्रयोग कैसे करें 50 ग्राम के लगभग भीगे हुए या भुने हुए हुए चने रोज 5 इस 7 बादाम के साथ अच्छी तरह चबा कर खाने से आपका शरीर मजबूत होता है और आपकी यौनशक्ति में भी चमत्कारिक रुप से बढ़ोतरी होती है और इन को खाने के बाद आप ऊपर से एक गिलास दूध लगभग 250 ग्राम पी ले, ऐसा करने से आपका दुबला पतला बदन तंदुरुस्त हो जाएगा और आपकी मांसपेशियों में ताकत आ जाएगी और इससे पुट्ठे भी मजबूत हो जाएंगे. एक बात का ध्यान रखें बादाम की गिरी भी आपको रत में गलानी है और उसका छिल्का उतारकर खाना है.

होठों का कालापन दूर करने के उपाय

होठों का कालापन दूर इस तरह से करें और अपने होठों को सुंदर बनायें, रात को सोने से पहले अपने होंटों पर मलाई लगने से भी होठों का कालापन कुछ दिन में दूर हो जाता है. या फिर आप गुलाब की पत्तियों को पीस कर उनका लेप करने से भी होंठो का कालापन कम हो जाता है और होंठ गुलाबी नज़र आने लगते हैं.
होठों का कालापन दूर करने का एक तरीका यह भी है आप नीम्बू को काटकर रात को सोते समय उसको अपने होंठो पर मलें तो कुछ दिन में इससे भी आपके होंठ अच्छे दिखने लगते हैं. और अगर शहद लगाएं तो इससे भी आप अपने होंठो को मुलायम और गुलाबी बना सकते हैं. या जैतून के तेल में थोड़ा सा वेसलीन मिला लें और रोशन अपने होंठों पे मलने से भी होंठों का कालापन दूर हो जाता है.
होठों का कालापन दूर करने के लिए आप चुकंदर का इस्तेमाल भी कर सकते हैं, चुकंदर को काटकर उसके टुकड़े अपनेहोंठों पर मलें ये बहुत ही ज़्यादा फायदेमंद होता है और प्राकृतिक रूप से भी चुकंदर होंटों के लिए बहुत लाभकारी माना गया है कुछ ही दिनों में ये आपके होंठों को गुलाबी रंगत दे देता है.

Tuesday, July 19, 2016

सूर्य के साथ अन्य ग्रह का फल

यह जगतपिता है,इसी की शक्ति से समस्त ग्रह चलायमान है,यह आत्मा कारक और पितृ कारक है,पुत्र राज्य सम्मान पद भाई शक्ति दायीं आंख चिकित्सा पितरों की आत्मा शिव और राजनीति का कारक है.मेष राशि में उच्च का एवं तुला में नीच का ना जाता है,चन्द्रमा देव ग्रह है,तथा सूर्य का मित्र है,मंगल भी सूर्य का मित्र है,गुरु सूर्य का परम मित्र है,बुध सूर्य के आसपास रहता है,और सूर्य का मित्र है,शनि सूर्य पुत्र है लेकिन सूर्य का शत्रु है,कारण सूर्य आत्मा है और आत्मा का कोई कार्य नही होता है,जबकि शनि कर्म का कारक है,शुक्र का सूर्य के साथ संयोग नही हो पाता है,सूर्य गर्मी है और शुक्र रज है सूर्य की गर्मी से रज जल जाता है,और संतान होने की गुंजायस नही रहती है,इसी लिये सूर्य का शत्रु है,राहु विष्णु का विराट रूप है,जिसके अन्दर सम्पूर्ण विश्व खत्म हो रहा है,राहु सूर्य और चन्द्र दोनो का दुश्मन है,सूर्य के साथ होने पर पिता और पुत्र के बीच धुंआ पैदा कर देता है,और एक दूसरे को समझ नही पाने के कारण दोनो ही एक दूसरे से दूर हो जाते है,केतु सूर्य का सम है,और इसे किसी प्रकार की शत्रु या मित्र भावना नही है,सूर्य से सम्बन्धित व्यक्ति पिता चाचा पुत्र और ब्रहमा विष्णु महेश आदि को जाना जाता है,आत्मा राज्य यश पित्त दायीं आंख गुलाबी रंग और तेज का कारक है।

सूर्य और चन्द्र का आपसी सम्बन्ध

सूर्य और चन्द्रमा अगर किसी भाव में एक साथ होते है,तो कारकत्व के अनुसार फ़ल देते है,सूर्य पिता है और चन्द्र यात्रा है,पुत्र को भी यात्रा हो सकती है,एक संतान की उन्नति बाहर होती है।

सूर्य और मंगल का आपसी सम्बन्ध

मंगल के साथ एक साथ होने पर मंगल की गर्मी और पराक्रम के कारण अभिमान की मात्रा बढ जाती है,पिता प्रभावी और शक्ति मान बन जाता है,मन्गल भाई है,इसी लिये एक भाई सदा सहयोग मे रहता है,मन्गल रक्त है,इसलिये ही पिता पुत्र को रक्त वाली बीमारिया होती है,एक दूसरे से एक सात और एक बारह में भी यही प्रभाव होता है,स्त्री की कुन्डली में पति प्रभावी होता है,लेकिन उसके ह्रदय में प्रेम अधिक होता है।

सूर्य और बुध का आपसी सम्बन्ध

बुध के साथ होने पर पिता और पुत्र दोनो ही शिक्षित होते है,समाज में प्रतिष्ठा होती है,जातक के अन्दर वासना अधिक होती है,पिता के पास भूमि भी होती है,और बहिन काफ़ी प्रतिष्ठित परिवार से सम्बन्ध रखती है,व्यापारिक कार्यों के अन्दर पिता पुत्र दोनो ही निपुण होते है,पिता का सम्बन्ध किसी महिला से होता है।

सूर्य और गुरु का आपसी सम्बन्ध

गुरु के साथ होने पर जीवात्मा का संयोग होता है,जातक का विश्वास ईश्व्वर में अधिक होता है,जातक परिवार के किसी पूर्वज की आत्मा होती है,जातक के अन्दर परोपकार की भावना होती है,जातक के पास आभूषण आदि की अधिकता होती है,पद प्रतिष्ठा के अन्दर आदर मिलता रहता है।

सूर्य और शुक्र का आपसी सम्बन्ध

शुक्र के साथ होने पर मकान और धन की अधिकता होती है,दोनो की युति के चलते संतान की कमी होती है,स्त्री की कुन्डली में यह युति होने पर स्वास्थ्य की कमी मिलती है,शुक्र अस्त हो तो स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर पडता है।

सूर्य और शनि का आपसी सम्बन्ध

शनि के साथ होने पर जातक या पिता के पास सरकार से सम्बन्धित कार्य होते है,पिता के जीवन में जातक के जन्म के समय काफ़ी परेशानी होती है,पिता के रहने तक पुत्र आलसी होता है,और पिता के बाद खुद जातक का पुत्र आलसी हो जाता है,पिता पुत्र के एक साथ रहने पर उन्नति नही होती है,वैदिक ज्योतिष में इसे पितृ दोष माना जाता है,जातक को गायत्री के जाप के बाद सफ़लता मिलने लगती है।

सूर्य और राहु का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ राहु का होना भी पितामह के बारे में प्रतिष्ठित होने की बात मालुम होती है,एक पुत्र की पैदायस अनैतिक रूप से भी मानी जाती है,जातक के पास कानून से विरुद्ध काम करने की इच्छायें चला करती है,पिता की मौत दुर्घटना में होती है,या किसी दवाई के रियेक्सन या शराब के कारण होती है,जातक के जन्म के समय पिता को चोट लगती है,जातक को सन्तान भी कठिनाई से मिलती है,पत्नी के अन्दर गुप चुप रूप से सन्तान को प्राप्त करने की लालसा रहती है,पिता के किसी भाई को जातक के जन्म के बाद मौत जैसी स्थिति होती है।

सूर्य और केतु का आपसी सम्बन्ध

केतु और सूर्य का साथ होने पर जातक और उसका पिता धार्मिक होता है,दोनो के कामों के अन्दर कठिनाई होती है,पिता के पास कुछ इस प्रकार की जमीन होती है,जहां पर खेती नही हो सकती है,नाना की लम्बाई अधिक होती है,और पिता के नकारात्मक प्रभाव के कारण जातक का अधिक जीवन नाना के पास ही गुजरता है।

सूर्य चन्द्र और मन्गल का आपसी सम्बन्ध

सूर्य चन्द्र और मन्गल के एक साथ होने पर पिता के पास खेती होती है,और उसका काम बागवानी या कृषि से जुडा होता है,पिता का निवास स्थान बदला जाता है,जातक को रक्त विकार भी होता है,माता को पिता के भाई के द्वारा कठिनाई भी होती है,माता या सास को गुस्सा अधिक होता है,एक भाई पहले किसी कार्य से बाहर गया होता है।

सूर्य चन्द्र और बुध का आपसी सम्बन्ध

सूर्य चन्द्र बुध का साथ होने पर खेती वाले कामो की ओर इशारा करता है,पिता का सम्बन्ध किसी बाहरी महिला से होता है,एक पुत्र का मन देवी भक्ति में लगा रहता है,और वह अक्सर देवी यात्रा किया करता है,एक पुत्र की विदेश यात्रा भी होती है,पिता जब भी भूमि को बेचता या खरीदता है,तो उसे धोखा ही दिया जाता है।

सूर्य चन्द्र और गुरु का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ चन्द्र और गुरु के होने पर जातक का पिता यात्रा वाले कामो के अन्दर लगा रहता है,और अक्सर निवास स्थान का बदलाव हुआ करता है,जातक पिता का आज्ञाकारी होता है,और उसे बिना पिता की आज्ञा के किसी काम में मन नही लगता है,जातक का सम्मान विदेशी लोग करते है।

सूर्य चन्द्र और शुक्र का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ चन्द्र और शुक्र के होने से भी पिता का जीवन दो स्त्रियों के चक्कर में बरबाद होता रहता है,एक स्त्री के द्वारा वह छला जाता है,जातक की एक बहिन की शादी किसी अच्छे घर में होती है,पिता पुत्र के द्वारा कमाया गया धन एक बार जरूर नाश होता है,किसी प्रकार से छला जाता है,जातक की माता के नाम से धन होता है,जमीन भी होती है,मकान भी होता है,मकान पानी के किनारे होता है,या फ़िर मकान में पानी के फ़व्वारे आदि होते है,जातक के अन्दर या पिता के अन्दर मधुमेह की बीमारी होती है।

सूर्य चन्द्र और शनि का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ चन्द्र और शनि होने के कारण एक पुत्र की सेवा विदेश में होती है,पिता का कार्य यात्रा से जुडा होता है,सूर्य पिता है तो शनि कार्य और चन्द्र यात्रा से जुडा माना जाता है,शनि के कारण माता का स्वास्थ खराब रहता है,उसे ठंड या गठिया वाली बीमारिया होती है।

सूर्य चन्द्र और राहु का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ चन्द्र और राहु होने से पिता और पुत्र दोनो को ही टीवी देखने और कम्प्यूटर पर चित्रण करने का शौक होता है,फ़ोटोग्राफ़ी का शौक भी होता है,दादा काफ़ी विलासी रहे होते है,उनका जीवन शराब या लोगों की आफ़तों को समाप्त करने के अन्दर गया होता है,अथवा आयुर्वेद के इलाजो से उन्होने अपना समय ठीक बिताया होता है,एक पुत्र का अनिष्ट माना जाता है,चन्द्र गर्भ होता है,तो राहु मौत का नाम जाना जाता है,राहु चन्द्र मिलकर मुस्लिम महिला से भी लगाव रखते है,पिता का सम्बन्ध किसी विदेशी या मुस्लिम या विजातीय महिला से रहा होता है।

सूर्य चन्द्र और केतु का आपसी सम्बन्ध

सूर्य चन्द्र केतु के साथ होने पर पितामह एक वैदिक जानकार रहे होते है,नानी भी धार्मिक और वैदिक किताबों के पठन पाठन और प्रवचनो से जुडी होती है,माता को कफ़ की परेशानी होती है,जातक के पास खेती करने वाले या पानी से जुडे अथवा चांदी का काम करने वाले हथियार होते है,वह इन हथियारो की सहायता से इनका काम करना जानता है,चन्द्रमा खेती भी है और आयुर्वेद भी है एक पुत्र को आयुर्वेद या खेती का ज्ञान भी माना जाता है.शहरों मे इस काम को पानी के नलों को फ़िट करने वाला और मीटर की रीडिंग लेने वाले से भी जोडा जाता है.सरकारी पाइपलाइन या पानी की टंकी का काम भी इसी ग्रह युति मे जोडा जाता है।

सूर्य मंगल और चन्द्र का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ मंगल और चन्द्र के होने से पिता पराक्रमी और जिद्दी स्वभाव का माना जाता है,जातक या पिता के पास पानी की मशीने और खेती करने वाली मशीने भी हो सकती है,जातक पानी का व्यवसाय कर सकता है,जातक के भाई के पास यात्रा वाले काम होते है,जातक या पिता का किसी न किसी प्रकार का सेना या पुलिस से लगाव होता है।

सूर्य मंगल और बुध का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ मन्गल और बुध के होने से तीन भाई का योग होता है,अगर तीनो ग्रह पुरुष राशि में हो तो,सूर्य और मन्गल मित्र है,इसलिये जातक के दो भाई आज्ञाकारी होते है,बुध मन्गल के सामने एजेन्ट बन जाता है,अत: इस प्रकार के कार्य भी हो सकते है,मंगल कठोर और बुध मुलायम होता है,जातक के भाई के साथ किसी प्रकार का धोखा भी हो सकता है।

सूर्य मंगल और गुरु का आपसी सम्बन्ध

सूर्य मन्गल और गुरु के साथ होने पर जातक का पिता प्रभावशाली होता है,जातक का समाज में स्थान उच्च का होता है,जीवात्मा संयोग भी बन जाता है,सूर्य और गुरु मिलकर जातक को मंत्री वाले काम भी देते है,अगर किसी प्रकार से राज्य या राज्यपरक भाव का मालिक हो,जातक का भाग्योदय उम्र की चौबीसवें साल के बाद चालू हो जाता है,जातक के पिता को अधिकार में काफ़ी कुछ मिलता है,जमीन और जागीरी वाले ठाठ पूर्वजों के जमाने के होते है।

सूर्य मंगल और शुक्र का आपसी सम्बन्ध

सूर्य मन्गल और शुक्र से पिता के पास एक भाई और एक बहिन का संयोग होता है,पिता की सहायतायें एक स्त्री के लिये हुआ करती है,जातक का चाचा अपने बल से पिता का धन प्राप्त करता है,जातक की पत्नी के अन्दर अहम की भावना होती है,और वह अपने को दिखाने की कोशिश करती है,एक बहिन या जातक की पुत्री के पास अकूत धन की आवक होती है,जातक के एक भाई की उन्नति शादी के बाद होती है।

सूर्य मंगल और शनि का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ मंगल और शनि के होने से जातक की सन्तान को कष्ट होता है,पिता के कितने ही दुश्मन होते है,और पिता से हारते भी है,जातक की उन्नति उम्र की तीस साल के बाद होती है,जीवन के अन्दर संघर्ष होता है,और जितने भी अपने सम्बन्धी होते है वे ही हर काम का विरोध करते है,भाई को अनिष्ट होता है,स्थान परिवर्तन समस्याओं के चलते रहना होता रहता है,कार्य कभी भी उंची स्थिति के नही हो पाते है,कारण सूर्य दिन का राजा है और शनि रात का राजा है दोनो के मिलने से कार्य केवल सुबह या शाम के रह जाते है,केवल पराक्रम से ही जीवन की गाडी चलती रहती है।

सूर्य मंगल और राहु का आपसी सम्बन्ध

सूर्य मन्गल के साथ राहु के होने से इन तीनो का योग पिता की कामों में किसी प्रकार की इन्डस्ट्री की बात का इशारा देता है,जातक की एक भाई की दुर्घटना किसी तरह से होती है,जातक का अन्तिम जीवन परेशानी में होता है,पुत्र से जातक को कष्ट होता है,कम्प्यूटर या फ़ोटोग्राफ़ी का काम भी जातक के पास होता है।

सूर्य मंगल और केतु का आपसी सम्बन्ध

सूर्य मन्गल और केतु के साथ होने से जातक के परिवार में हमेशा अनबन रहती है,जातक को कानून का ज्ञान होता है,और जातक का जीवन आनन्द मय नही होता है उसका स्वभाव रूखापन लिये होता है,नेतागीरी वाले काम होते है,एक पुत्र को परेशानी ही रहती है,जातक के शरीर में रक्त विकार हुआ करते है।

सूर्य बुध और चन्द्र का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ बुध और चन्द्रमा की युति होने से पिता का जीवन बुद्धि जीवी कामो में गुजरता है,पिता कार्य के संचालन में माहिर होता है,जातक या जातक का पिता दवाइयों वाले कामों के अन्दर माहिर होते है,चन्द्रमा फ़ल फ़ूल या आयुर्वेद की तरफ़ भी इशारा करता है,इसलिये बुध व्यापार की तरफ़ भी इशारा करता है,जातक की शिक्षा में एक बार बाधा जरूर आती है लेकिन वह किसी न किसी प्रकार से अपनी बाधा को दूर कर देता है।

सूर्य बुध और मंगल का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ बुध और मन्गल के होने से जातक के पिता को भूमि का लाभ होता है,जातक की शिक्षा मे अवरोध पैदा होता है,जातक के भाइयों के अन्दर आपसी मतभेद होते है,जो आगे चलकर शत्रुता में बदल जाते है।

सूर्य बुध और गुरु का आपसी सम्बन्ध

सूर्य बुध और गुरु का साथ होने से जातक जवान से ज्ञान वाली बातों का प्रवचन करता है,योग और उपासना का ज्ञानी होता है,पिता को उसके जीवन के आरम्भ मे कठिनाइयों का सामना करना पडता है,लेकिन जातक के जन्म के बाद पिता का जीवन सफ़ल होना चालू हो जाता है,जातक का एक भाई लोकप्रिय होता है,पिता को समाज का काम करने मे आनन्द आता है और वह अपने को सन्यासी जैसा बना लेता है।

सूर्य बुध और शुक्र का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ बुध और शुक्र के होने से जातक की एक संतान बहुत ही शिक्षित होती है,उसके पास भूमि भवन और सवारी के अच्छे साधन होते है,पिता के जीवन में दलाली बाले काम होते है,वह शेयर या भवन या भूमि की दलाली के बाद काफ़ी धन कमाता है,जातक या जातक के पिता को दो स्त्री या दो पति का सुख होता है,जातक समाज सेवी और स्त्री प्रेमी होता है।

सूर्य बुध और शनि का आपसी सम्बन्ध

सूर्य बुध के साथ शनि के होने पर जातक के पिता के साथ सहयोग नही होता है,पिता के पास जो भी काम होते है वे सरकारी और बुद्धि से जुडे होते है,बुद्धि के साथ कर्म का योग होता है,जातक को सरकार से किसी न किसी प्रकार की सहायता मिलती है,राजकीय सेवा में जाने का पूरा पूरा योग होता है।

सूर्य बुध और राहु का आपसी सम्बन्ध

सूर्य बुध के साथ राहु के होने से जातक एक पिता और पितामह दोनो ही प्रसिद्ध रहे होते है,पिता के पास धन और भूमि भी होती है,लेकिन वह जातक के जन्म के बाद धन को दवाइयों या आकस्मिक हादसों मे अथवा शराब आदि में उडाना चालू कर देता है,एयर लाइन्स वाले काम या उनसे सम्बन्धित एजेन्सी वाले काम भी मिलते है,यात्राओं को अरेन्ज करने वाले काम और सडकॊ की नाप जोख के काम भी मिलते है,जातक को पैतृक सम्पत्ति कम ही मिल पाती है।

सूर्य बुध और केतु का आपसी सम्बन्ध

सूर्य के साथ बुध और केतु होने से जातक के मामा का परिवार प्रभावी होता है,पिता या जातक को कोर्ट केशो से और बेकार के प्रत्यारोंपो से कष्ट होता है,पिता के अवैद्य संबन्धों के कारण परिवार में तनाव रहता है,जातक को इन बातो से परेशानी होती है।

जन्म के सूर्य पर ग्रहों का गोचर से प्राप्त असर

जन्म कुन्डली में स्थापित सूर्य पर समय समय पर जब ग्रह गोचर से विचरण करते है,उसके बाद जो बाते सामने आती है,वे इस प्रकार से है।

सूर्य का सूर्य के साथ गोचर

सूर्य जब जन्म के सूर्य के साथ गोचर करता है,तो जातक के पिता को बीमारी होती है,और जातक को भी बुखार आदि से परेशानी होती है,दिमाग में उलझने होने से मन खुश नही रहता है।

चन्द्रमा का सूर्य के साथ गोचर

जन्म के सूर्य पर जब चन्द्रमा गोचर करता है,तो पिता या खुद को अपमान सहन करना पडता है,कोई यात्रा भी हो सकती है।

मंगल का सूर्य के साथ गोचर

जन्म के सूर्य पर जब मन्गल गोचर करता है,तो जातक को रक्त विकार वाली बीमारियां हो सकती है,पित्त वाले रोगों का जन्म हो सकता है,भाई को सरकार या समाज की तरफ़ से कोई न कोई कष्ट होता है।

बुध का सूर्य के साथ गोचर

जन्म के सूर्य पर बुध जब गोचर करता है,तो पिता या खुद को भूमि का लाभ होता है,नये मित्रो से मिलना होता है,जो भी व्यापारिक कार्य चल रहे होते है उनमे सफ़लता मिलती है।

गुरु का सूर्य के साथ गोचर

जन्म के सूर्य पर जब गुरु गोचर से भ्रमण करता है,तो जातक को किसी महान आत्मा से साक्षात्कार होता है,जीवन की सोची गयी योजनाओं में सफ़लता का आभास होने लगता है,किसी न किसी प्रकार से यश और पदोन्नति का असर मिलता है,प्रतिष्ठा में भी बढोत्तरी होती है।

शुक्र का सूर्य के साथ गोचर

जन्म के सूर्य पर जब शुक्र गोचर करता है,तो जातक को धन की कमी अखरने लगती है,पत्नी की बीमारी या वाहन का खराब होना भी पाया जाता है।

शनि का सूर्य के साथ गोचर

जन्म के सूर्य पर जब शनि गोचर करता है,कार्य और व्यापार में असंतोष मिलना चालू हो जाता है,जो भी काम के अन्दर उच्चाधिकारी लोग होते वे अधिकतर अप्रसन्न रहने लगते है,धन का नाश होने लगता है,नाम के पीछे कार्य या किसी आक्षेप से धब्बा लगता है।

राहु का सूर्य के साथ गोचर

जन्म के सूर्य पर जब राहु गोचर से भ्रमण करता है,तो पिता या जातक को माया मोह की भावना जाग्रत होती है,पिता को या पुत्र को चोट लगती है,बुखार या किसी प्रकार का वायरल शरीर में प्रवेश करता है,किसी प्रकार से मीडिया या कम्प्यूटर में अपना नाम कमाने की कोशिश करता है,किसी भी काम का भूत दिमाग में सवार होता है,अक्सर शाम के समय सिर भारी होता है,पिता को या खुद को या तो शराब की लत लगती है,या फ़िर किसी प्रकार की दवाइयों को खाने का समय चलता है,किसी के प्रेम सम्बन्ध का भूत भी इसी समय में चढता है।

केतु का सूर्य के साथ गोचर

जन्म के सूर्य के साथ केतु का गोचर होने से जातक के अन्दर नकारात्मकता का प्रभाव बढने लगता है,वह काम धन्धा छोड कर बैठ सकता है,मन में साधु बनने की भावना आने लगती है,घर द्वार और संसार से त्याग करने की भावना का उदय होना माना जाता है,हर बात मे जातक को प्रवचन करने की आदत हो जाती दाढी और बाल बढाने की आदत हो जाती है,यन्त्र मन्त्र और तन्त्र की तरफ़ उसका दिमाग आकर्षित होने लगता है।

सूर्य का अन्य ग्रहों पर गोचर गोचर

इसी प्रकार से सूर्य जब जन्म के अन्य ग्रहों के साथ गोचर करता है, तो मिलने वाले प्रभाव एक माह के लिये माने जाते है।

सूर्य का चन्द्रमा के साथ गोचर

सूर्य जब जन्म के समय के चन्द्रमा के ऊपर गोचर करता है,तो जातक या जातक के पिता की यात्रायें होती है,और धन की प्राप्तिया होने लगती है,जनता में किसी न किसी प्रकार से नाम का उछाल आता है,और जातक का दिमाग घूमने मे अधिक लगता है,सरकार और सरकारी कामो का भूत दिमाग मे हमेशा घूमा करता है राजनीति वाली बातो से मन ही नही भरता है।

सूर्य का मंगल के साथ गोचर

इसी तरह से सूर्य जब जन्म के मन्गल के ऊपर विचरता है तो जातक का दिमाग जिद्दी होने लगता है,कार्य के स्थान में परेशानिया आने लगती है,पुत्र को चोट लगने की पूरी पूरी सम्भावना होती है,मानसिक तनाव के चलते कोई काम नही बन पाता है,स्त्री की राशि मे पति को क्रोध की भावना बढने लगती है,और पति अपने ऊपर अधिक अभिमान करने लगता है,सरकारी लोगो से दादागीरी वाली बाते भी सामने आने लगती है,अगर जातक किसी प्रकार से पुलिस या मिलट्री के क्षेत्र में है तो कोई सरकारी छापा या रिस्वत का मामला परेशान करता है।

सूर्य का बुध के साथ गोचर

सूर्य जब जन्म के बुध के ऊपर गोचर करता है तो दोस्त सहायता में आ जाते है,पिता या पुत्र को जमीनी कामो में सफ़लता मिलने लगती है,पिता या पुत्र के काम बहिन बुआ या बेटी के प्रति होने शुरु होते हैं,दिमाग में व्यापार के प्रति सरकारी विभागों के काम आने लगते है,और इसी बात के लिये सरकार से सम्पर्क वाले काम किये जाते है।

सूर्य का गुरु के साथ गोचर

सूर्य जब जन्म के गुरु के ऊपर गोचर करता है,तो एक माह के लिये जातक के अन्दर धार्मिकता की भावना का उदय होता है,किसी न किसी प्रकार का यश मिलता है,किसी न किसी प्रकार के धर्म के प्रति राजनीति दिमाग मे आने लगती है,परिस्थितियां अगर किसी प्रकार से अनुकूल होती है,तो काम के अन्दर बढोत्तरी और पदोन्नति के आसार बनने लगते है,मित्रो और सरकारी लोगो का उच्च तरीके से मिलन होने लगता है।

सूर्य का शुक्र के साथ गोचर

सूर्य जब जन्म के शुक्र के ऊपर गोचर करता है तो पिता को धन का लाभ होने लगता है,अविवाहितो के लिये पुरुष वर्ग के लिये सम्बन्धो की राजनीति चलने लगती है,स्त्री वर्ग के लिये आभूषण या जेवरात बनाने वाली बाते सामने आती है,सजावटी वस्तुओं को खरीदने और लोगो को दिखावा करने की बात भी होती है।

सूर्य का शनि के साथ गोचर

सूर्य जब जन्म के शनि के साथ गोचर करता है,तो पिता के कार्य मे किसी व्यक्ति के द्वारा बेकार की कठिनाई पैदा की जाती है,पिता और पुत्र के विचारों में असमानता होने से दोनो के अन्दर तनाव होने लगता है,सरकार से जमीन मकान या कार्य के अन्दर कठिनाई मिलती है,लेबर वाले कामो के अन्दर सरकारी दखल आना चालू हो जाता है,लेबर डिपार्टमेन्ट या उससे जुडे विभागों के द्वारा लेबरों के प्रति जांच पडताल होने लगती है,मकान का काम सरकारी हस्तक्षेप के कारण रुक जाता है।

सूर्य का राहु के साथ गोचर

सूर्य जब जन्म के राहु पर विचरण करता है,तो पिता को अपने कामो के अन्दर आलस आना चालू हो जाता है,कार्य के अन्दर असावधानी होने लगती है,और परिणाम के अन्दर दुर्घटना का जन्म होता है,किसी न किसी के मौत या दुर्घटना के समाचार मिलते रहते है,स्वास्थ्य में खराबी होने लगती है,किसी न किसी प्रकार से शमशानी या अस्पताली या किसी भोज मे जाने की यात्रा करनी पडती है।

सूर्य का केतु के साथ गोचर

सूर्य जब जन्म के केतु के साथ गोचर करता है तो जातक के अन्दर धार्मिकता आजाती है,वह जो भी काम करता है,या किसी की सहायता करता है तो उस काम मे राजनीति आ जाती है.सूर्य के साथ जब कोई ग्रह बक्री हो जाता है तो इस प्रकार के फ़ल मिलते है,मन्गल के बक्री होने पर उत्साह मे कमी आजाती है,शक्ति में निर्बलता मालुम चलने लगती है,पिता का चलता हुआ इलाज किसी न किसी कारण से रुक जाता है,बुध के बक्री होने से शिक्षा का काम रुक जाता है,चलता हुआ व्यापार ठप हो जाता है,किसी से किसी व्यापारिक समझौते पर चलने वाली बात बदल जाती है,गुरु के बक्री होने से अगर संतान पैदा होने वाली है,तो किसी न किसी प्रकार से गर्भपात हो जाता है,सन्तान की इच्छा के लिये यह समय बेकार सा हो जाता है,ह्रदय वाली बीमारियों का जन्म हो जाता है,शुक्र के बक्री होते ही कामवासना की अधिकता होती है,और शनि के बक्री होते ही जातक के अन्दर कार्य या अधिकार के लिये उतावलापन आजाता है.

Saturday, July 2, 2016

त्रियोग

 ये योग तीन चीजों का योग है जिसे मैथीदाना, अजवाइन और कलौंजी को मिला कर बनाया जाता है….
* तीनों चीजें सहजता से उपलब्ध हैं और औषधि गुणों से भरपूर हैं।
मैथीदाना -250 ग्राम
अजवाइन -100 ग्राम
कलौंजी- 50 ग्राम लें…
* तीनों को बारीक पीस कर चूर्ण बना लें।
* यह चूर्ण रोज आधा चम्मच मात्रा में रात को सोते समय गर्म पानी के साथ लिया जाए तो पेट के तमाम रोगों में फायदा करता है। कब्ज तो कोसों दूर हो जाता है। इसके साथ पथ्य भी करें तो परिणाम बेहतर मिलते हैं। पथ्य अर्थात तली गुली चीजें, बेसन और मैदे से बनी चीजों से यथा संभव परहेज करें। भोजन में सलाद व रेशे वाले पदार्थ अधिक लें। यह नुस्खा गैस, अपच, भूख न लगना, भोजन के प्रति अरुचि आदि रोगों में बेहद लाभ करता है।
* अन्य फायदे:-
<<<<>>>>>>
गठिया दूर होता है ..
हड्डियां मजबूत होती हैं .
आँखों की रोशनी बढ़ती है .
बालों का विकास होता है .
शरीर में रक्तसंचार तीव्र होता है .
कफ से मुक्ति मिलती है .
हृदय की कार्य क्षमता बढ़ती है .
थकान नहीं रहेगी, अश्व के समान बल आएगा .
स्मरण शक्ति बढ़ती है .
शरीर की रक्तवाहिनियां शुद्ध होंगी .
मधुमेह काबू में रहेगा .
स्त्रियों में शादी के बाद होने वाली तकलीफें दूर होंगी .
नपुंसकता दूर होगी, बच्चा होगा वह भी तेजस्वी होगा.
त्वचा के रंग में निखार आएगा .

शनि दोष मिटायें

शनि दोष मिटायें : ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि को सबसे ज्यादा क्रूर ग्रह माना गया है और इसी वजह से इन्हें अनिष्ट, अशुभता और दुःख देने वाला ग्रह भी माना जाता है. किन्तु ऐसा है नही क्योकि शनि बहुत ही न्याय प्रिय ग्रह है और इसीलिए शनि देव को न्यायाधीश भी माना गया है. ये सूर्य देव के पुत्र है, अपने पिता से दूर होने के कारण ये प्रकाशहीन है और इसीलिए इन्हें अंधकारमयी, विद्याहीन भावहीन, उत्साह हीन, निर्दयी, अभावग्रस्त ग्रह माना जाता है. अगर आप भी शनि के प्रभाव से ग्रस्त है तो शनि देव के अशुभ फल को दूर करने के लिए आप इन उपायों को अपनाये.


-    आप शनिवार के दिन काले रंग की चिड़िया को खरीदकर उसे दोनों हाथो में ले कर आसमान में उड़ा दें. आपकी सारी तकलीफे भी चिड़िया की तरह ही उड़ जाएगी.


-    आप शिव जी का पूजन कीजिये और शिवलिंग पर प्रतिदिन जल चढ़ाये. साथ ही आप शनिवार के दिन लोहे का त्रिशूल महाकाल शिव, महाकाल भैरव और महाकाली के मंदिर में अर्पित करें.

-    साथ ही आप हनुमान जी की भी प्रतिदिन पूजा करें. 


-    काले तिल, काली उड़द, काली गाय, काले कपडे, तेल, लोहे के बर्तन आदि का किसी जरूरतमंद व्यक्ति को दान कीजिये.
Shani dosha or Uske Jyotishi Upaay
शनि दोष  के उपाय 
-    आप गरीबो को खाना खिलाएं और उनकी मदद भी जरुर कीजिये, साथ ही आप काले कुते को दूध पिलाना न भूले.


-    हो सके तो आप शनिवार के दिन व्रत भी रखना शुरू कर दें और शनिवार के दिन ही आप गेहूं में काले चने मिला कर पिसवाये.


-    आप पीपल के पेड़ की पूजा कीजिये, उस पर जल अर्पित कीजिये और उसकी परिक्रमा भी जरुर करें.

-    आप शनिवार के दिन काली उड़द को पीस कर उसके आटे की गोलियां बना ले और फिर आप उन्हें मछलियों को खिलाएं.


-    आप किसी भी शुक्ल पक्ष के पहले शनिवार के दिन 10 बादाम लेकर हनुमान मंदिर में जाएँ, आप मंदिर में 5 बादाम अर्पित कर दें और बचे हुए 5 बादाम को आप अपने घर में लाकर किसी लाल कपडे में बाँध ले और उसे धन के स्थान पर रख ले.


-    आप शनिवार के दिन शमशान घाट में लकड़ियाँ दान करे. आप इस उपाय को 5 शनिवार तक अपनाएं.  


-    इसके अलावा आप शनिवार की रात को सरसों का तेल हाथ और पैरो के नाखुनो पर लगा कर सोये. साथ ही आप शनिवार की शाम को पीपल के पेड़ के नीचे तील या सरसों के तेल का दीपक जलाएं.

-    7 शनिवार के दिन आप काले तिल, आटा और शक्कर को मिला कर उनका एक पाउडर बना ले और उन्हें चीटियों को खिलाएं.


-    आप शनिवार के दिन शाम को काले कुत्ते को चुपड़ी हुई रोटी खिलाये. अगर कुत्ता रोटी को खा लेता है तो समझ जाओ कि शनि ग्रह की वजह से मिली हुई आपकी सारी समस्याओ का समाधान हो गया है. लेकिन इस बात का खास ध्यान रखे कि कुत्ते को अपने घर के द्वार पर न लाये अपितु उसे सड़क पर ही रोटी खिलाये.


अगर शनि आपकी कुंडली में किसी भाव पर विराजमान होकर आपको परेशान कर रहा है तो आप इन उपायों को अपनाये –


प्रथम भाव में शनि :

-    अगर शनि आपकी कुंडली के प्रथम भाव में विराजमान है तो आप रोज अपने माथे पर दूध और दही का तिलक लगाये.


-    आप शनिवार के दिन ताम्बे के चार सांप बनवार कर नदी में प्रवाहित करे.


-    आप भगवान शनिदेव और हनुमान जी के मंदिर में जाकर ये प्रार्थना करे कि हे प्रभु ! हमसे जो पाप हुए है, उनके लिए हमें क्षमा करे और हमारा कल्याण करे.


-    जब भी आपको समय मिले आप शनि दोष निवारक मंत्र का जाप करे.


दुसरे भाव में शनि :

-    सबसे पहले तो आप शराब और मांस का त्याग करे.


-    आप सांपो को दूध पिलाना शुरू करे और कभी भी आप सांप को न तो परेशान करे और ना ही उन्हें कभी मारे.


-    कभी भी आप ऐसी गाय और भैस को ना पाले जिनके दो रंग हो.


-    आप शनिवार के दिन किसी तालाब में मछलियों को आटा खिलाएं.


-    आप शनिवार के दिन कभी भी सिर पर तेल न लगाये और आप प्रतिदिन सोते समय दूध का सेवन जरुर करे.


तीसरे भाव में शनि :

-    अगर आपके घर में मुख्य द्वार दक्षिण दिशा कि तरफ है तो आप उसे जल्दी ही बंध करवा दें.

-    आपको रोज शनि चालीसा का पाठ करना चाहिए और आप दुसरो को भी शनि चालीसा को भेंट स्वरुप दें.


-    आपको अपने गले में शनि यन्त्र को भी धारण करना चाहिए.


-    आप अपने घर में एक काले कुत्ते को भी जरुर पाले और उस कुत्ते का सम्पूर्ण ध्यान रखे.

-    आप कभी भी अपने घर के अंदर हैंडपंप न लगवाये.


चतुर्थ भाव में शनि :

-    अगर आपकी कुंडली के चौथे भाव में शनि है तो आप कभी भी रात्री को दूध न पिए.

-    आप कभी भी पराई स्त्री के साथ अवैध संबंध न बनाये.

-    इसके अलावा आपको कौओ को दाना डालना चाहिए.

-    शनिवार के दिन आप कुएं में कच्चा दूध डाले.

-    साथ ही आप बहती नदी में एक बोतल शराब को प्रवाहित कर दे.


पंचम भाव में शनि :

-    आपको अपने पुत्र के जन्मदिन पर मिठाई की जगह नमकीन वस्तुएं बांटनी चाहिए.

-    आप शनि देव की रोज पूजा करे और शनि यन्त्र को धारण करे.

-    आपको शनिवार के दिन अपने वजन के दसवे हिस्से के बराबर, बादाम को नदी में प्रवाहित करना चाहियें.


छटवे भाव में शनि :

-    आपको कभी भी चमड़े के जूते, बैग, अटैची का उपयोंग नही करना चाहिए.

-    आपको शनिवार के दिन वर्त रखना चाहिए.

-    आप साफ़ नदी के जल में चार नारियल को प्रवाहित कर दे.

-    आप शनिवार के दिन काली गाय को घी से रोटी को चुपड़ कर नियमित रूप से खिलाये.


सप्तम भाव में शनि :

-    अगर आपके सप्तम भाव में शनि है तो आप कभी भी किसी पराई स्त्री के साथ अवैध संबंध न बनाये.

-    आपको मिट्टी के किसी पात्र में शहद को भर कर किसी खेत की मिट्टी के नीचे दबा देना चाहिए.

-    आप अपने हाथ में घोड़े को नाल का शनि छल्ला धारण करें.


अष्टम भाव में शनि :

-    अगर हो सके तो आप अपने गले में चांदी की एक चेन को धारण जरुर करे.

-    आप शनिवार के दिन एक काले कपडे को लेकर उसमे 8 किलो काली उड़द की दाल को डाल ले, फिर आप उस उड़द को बहती नदी के पानी में बहा दें.

-    आपके लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद होगा अगर आप सोमवार के दिन चावल का दान करते है. 


नवम भाव में शनि :

-    अगर आपकी कुंडली के नवम भाव में शनि है तो आपको इसके उपाय के लिए अपने पास हमेशा एक पीले रंग का रुमाल जरुर रखना चाहिए.

-    आपको साबुत मुंग को मिट्टी के किसी बर्तन में भर कर नदी में प्रवाहित करनी चाहिए.

-    आप गुरुवार के दिन सवा 6 रत्ती का पुखराज धारण करे.

-    आप शनिवार के दिन किसी तालाब या नदी में मछलियों को आटा जरुर डाले.
 
शनि दोष और उसके ज्योतिषी उपाय
शनि दोष और उसके ज्योतिषी उपाय

दशम भाव में शनि :

-    आपको अपने कमरे में हर चीज़ ( जैसेकि परदे, बिस्तर की चादर, दीवार का रंग इत्यादि ) पीले रंग की ही इस्तेमाल करनी चाहिए.

-    साथ ही आप गुरुवार के दिन पीले लड्डू का दान करे या फिर उसे प्रसाद के रूप में बांटे.

-    समय मिलते ही आप शनि दोष निवारक मंत्र का जाप करे और आप शनि यन्त्र को धारण भी करे.


एकादश भाव में शनि :

-    अगर आपकी कुंडली के एकादश भाव में शनि है तो आप शनिवार के दिन सूर्योदय से पहले अपने घर के मुख्य दरवाजे के सामने भूमि पर शराब या फिर कडवा तेल डाले.

-    आप परस्त्री के साथ कभी भी अवैध संबंध न रखे.

-    आप कौओ को दाना डाले और शनिवार के दिन कुए में कच्चा दूध भी डाले.

-    आपको सबसे ज्यादा सावधान उन लोगो से रहना है जो आपके मित्र के वेश में आपके छुपे हुए शत्रु है.


द्वादश भाव में शनि :

-    सबसे पहले तो इन व्यक्तियों को झूठ का साथ छोड़ना होगा और हमेशा सत्य के मार्ग को अपना होगा.

-    साथ ही आप काले कुत्ते और गाय को शनिवार के दिन रोटी खिलाये और उनकी सेवा करें.

-    आपको शनिवार के दिन काली उड़द की दाल का दान करना चाहिए.

-    आप शराब और मांस से दूर रहे और शनि यन्त्र को धारण करे.