Wednesday, July 1, 2015

आग से जलने पर उपचार


आग का इस्तेमाल आप किसी न किसी तरह से करते रहते हो। चाहे वह खाना बनाते समय हो या फिर अन्य काम करते वक्त। कई बार आग की चपेट में आकर हाथ आथवा पैर जल जाते हैं। एैसे में जले हुई जगह पर बेहद दर्द और परेशानी होती है। एैसे में तुंरत राहत देने के लिए आयुर्वेद में कई घरेलू नुस्खे दिए गएं हैं। जिन्हें वैदिक वाटिका आप तक पहुंचा रहा है।
आग से जलने पर अपनाएं ये वैदिक घरेलू नुस्खे
1. नमक में थोड़ा पानी डालकर उसे गाढ़ा बना लें और इस पेस्ट को जली हुई जगह पर लगाएं। इससे फफोले नहीं पड़ते और घाव जल्दी भर जाते हैं।
2. जले हुई जगह पर तुरंत आलू को काटकर लगाने से जलन ठीक हो जाती है और फफोले नहीं बनते।
3. प्याज के रस को जली हुई त्वचा पर लगाने से जलन शांत होती है।
4. गीले आटे को जली हुई जगह पर लगाने से जलन कम हो जाती है और छाले भी नहीं पड़ते।
5. सरसों के तेल को जले हुए अंग पर लगाने से जलन और छाले नहीं होते।
6. देसी घी को जली हुई जगह पर लगाने से भी आराम मिलता है और घाव जल्दी भर जाते हैं।
7. कोई भी अंग जलने पर तुंरत अरबी को पीसकर जली हुई जगह लगाने से जलन शांत हो जाती है।
8. हल्दी को पानी में मिला लें और जले स्थान पर बार-बार लगाने से जली हुई त्वचा ठीक हो जाती है।
9. ग्लिसरीन को जले हुए स्थान पर लगाने से छाले, फफोले और दर्द ठीक होता है।
10. कच्चे केले को पीसकर जली हुई त्वचा पर लगाने से दर्द और जलन दोनो ठीक हो जाती है।
11. जले हुए स्थान पर गाय का गोबर लगाने से फौरन आराम आ जाता है। और निशान भी नहीं बनता है।
12. अनार के पत्तों को पीसकर जले हुए स्थान पर लगाने से जलने का  दर्द ठिक हो जाता है।
13. आग या गर्म पानी से जलने पर अंग पर तिलों को पीसकर लेप करने से लाभ होता है।
14. अरण्ड के पत्ते को जले हुए अंग पर लगाने से आराम मिलता है।
इन प्राकृतिक घरेलू उपायों के द्वारा आग से होने वाली जलन और दर्द से राहत मिलती है। ये बात ध्यान रखें आग का इस्तेमाल हमेशा ध्यान से करें। 

No comments:

Post a Comment