Sunday, May 18, 2014

बघार या तडका लगाना यानी खाने को संस्कारित करना

जिस तरह बिना संस्कार के इंसान जंगली होता है उसी तरह भोजन भी बिना संस्कार के शरीर में उथल पुथल कर देता है और वात-पित्त-कफ का संतुलन बिगाड़ कर बीमार कर देता है | विभिन्न मसालों से तडका लगाने से उनके गुण उस भोजन को संतुलित बना देते है , इसलिए भारतीय भोजन बनाने की पद्धति सबसे वैज्ञानिक और स्वास्थकर है |हमारे यहाँ परम्परा रही है की दोपहर के भोजन में जीरा और हींग का तडका अवश्य लगता है |यह एक बहुत बड़ा विज्ञान है जिसे गृहिणियां संजोती आई है ,किसी चाइनीज़ , इटेलियन या अंग्रेजी खाने में तडका या छौंक नहीं लगता |
ज़्यादातर तडके में हम राइ जीरे का तडका लगते है , पर इसमे मेथी दाने की पावडर , सौंफ , कलौंजी भी डाली जा सकती है | पंचफोरन में जीरा , राइ , कलौंजी , मेथी दाना और सौंफ होता है |मेथी दाना से वात का शमन होता है , इसलिए यह रात के भोजन के लिए उत्तम है | हींग , अजवाइन से पित्त का शमन होता है , इसलिए यह दोपहर के भोजन के लिए उत्तम है |

No comments:

Post a Comment