Sunday, May 18, 2014

साधारण '' कारगर '' नुस्खे, जो हर दिन आपके काम आएंगे ---

 पके हुए केले को अच्छी तरह से मैश करें और चेहरे पर फेसपैक की तरह लगाएं। करीब 15 मिनट बाद धो लें। ऐसा करने से चेहरे की त्वचा में निखार आता है।

- दो चम्मच शहद और एक चम्मच नींबू के रस का मिश्रण त्वचा पर लगाएं। करीब 20 मिनिट बाद इसे साफ कर लें, त्वचा नर्म और मुलायम हो जाएगी।

- एलोवेरा की पत्तियों से जेल निकालकर इसमें कुछ बूंदें नींबू रस की मिलाएं। इस मिश्रण को चेहरे पर लगाने से चेहरा चमकने लगता है।

- बादाम का तेल और शहद बराबर मात्रा में मिलाकर चेहरे पर लगाएं। थोड़ी देर रखने के बाद चेहरा धो लें। ऐसा करने से चेहरा निखर जाता है।

- व्हीट-ग्रास का जूस सुबह खाली पेट पीने से चेहरे की लालिमा बढ़ती है और खून भी साफ होता है।

- काली कोहनियों को साफ करने के लिए नींबू को दो भागों में काटें। उस पर खाने वाला सोडा डालकर कोहनियों पर रगड़ें। मैल साफ हो जाएगा, कोहनियां मुलायम हो जाएंगी।

- बालों में मेथी दाने का पेस्ट बनाकर लगाएं, रूसी दूर हो जाएगी।

- अरण्डी के तेल को नाखूनों की सतह पर कुछ देर हल्के हल्के मालिश करें। रोजाना सोने से पहले ऐसा करने से नाखूनों में चमक आ जाती है।

- एक चौथाई चम्मच मेथी दाना को पानी के साथ निगलने से अपचन की समस्या दूर होती है।

- मेथी के बीज आर्थराइटिस और साईटिका के दर्द से निजात दिलाने में मदद करते हैं। करीब 1 ग्राम मेथी दाना पाउडर और सोंठ पाउडर को मिलाकर गर्म पानी के साथ दिन में दो-तीन बार लेने से लाभ होता है।

- बादाम की गिरी, बड़ी सौंफ व मिश्री तीनों को समान मात्रा में मिला लें। रोज इस मिश्रण को एक चम्मच मात्रा में एक गिलास दूध के साथ रात को सोते समय लें।आंखों की प्रॉब्लम्स दूर हो जाएंगी

- समान मात्रा में लेकर अजवाइन और जीरा को एक साथ भून लें। इस मिश्रण को पानी में उबाल कर छान लें। इस छने हुए पानी में चीनी मिलाकर पिएं, एसिडिटी से राहत मिलेगी।

- धनिया, जीरा और चीनी तीनों को बराबर मात्रा में मिलाकर सेवन करने से एसिडिटी के कारण होने वाली जलन शांत हो जाती है।

- दूध की मलाई और पिसी मिश्री मिलाकर खाने से कमजोरी दूर होती है।

- सफेद मूसली का एक चम्मच चूर्ण और एक चम्मच पिसी मिश्री मिलाकर। सुबह और रात को सोने से पहले गुनगुने दूध के साथ एक चम्मच मात्रा में लेने से कमजोरी दूर हो जाती है।

- रोजाना सुबह एक से दो लहसुन की साबूत कलियां पानी से निगल लेने पर जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है।

- लहसुन की सिर्फ दो कलियों का रोजाना सेवन करने से आपके शरीर से बेड कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम कर देता है।

- लहसुन की दो कलियों को छील छीलकर चबाया जाए तो ब्लडप्रेशर कंट्रोल में रहता है।

- संतरे के छिलकों का महीन चूर्ण बनाकर उसमें गुलाब जल मिलाकर चेहरे पर लगाएं, मुहांसे दूर हो जाते हैं।

- एक गिलास गुनगुने पानी में दो छोटे चम्मच नींबू का रस मिलाकर लें। यह काम दिन में 8-10 बार करें। अर्थराइटिस के दर्द में आराम मिलेगा।

-आधा चम्मच मेथी का चूर्ण दही में मिलाकर सेवन करने से पेचिश दूर होती है।

- मेथी के पत्तों के रस में काली दाख मिलाकर सेवन करने से भी पेचिश दूर होता है।

- 1/2 चम्मच चिरौंजी को 2 चम्मच दूध में पीसकर पेस्ट बनाकर लगाएं, इससे चेहरे के दाग-धब्बे दूर हो जाते हैं।

- सफेद जीरे को घी में भूनकर इसका हलुवा बनाकर प्रसुता को खिलाने से दूध में बढ़ोतरी होती है।

- बहुत तेज सिरदर्द हो तो पुदीना का तेल हल्के हाथों से सिर पर लगाएं, सिरदर्द से राहत मिलेगी।

- दो-चार लौंग पीसकर उसका सिर पर लेप लगाने से सिरदर्द में जल्द आराम मिलता है।

- नमक में दो बूंद लौंग का तेल डालकर उसे सिर पर लगाएं, सिरदर्द में बहुत जल्दी आराम मिलेगा।

- मुंह के छाले की समस्या परेशान कर रही हो तो दिन में कम से कम तीन बार कच्चे दूध से अच्छी तरह गरारे करें, छाले मिट जाएंगे।

- खाना पकाने बाद आस-पास 1 या 2 लौंग को बर्तनों के पास रख दें तो चीटियां कभी परेशान नहीं करेंगी।

- सुपारी को बारीक पीस लें। इसमें लगभग 5 बूंद नींबू का रस और थोड़ा सा काला या सेंधा नमक मिलाएं। प्रतिदिन इस चूर्ण से मंजन करें। दांत चमक जाएंगे।।

- कब्ज होने पर रात्रि में सोते समय दस बारह मुनक्का दूध में उबाल कर खाएं और दूध पी लें।

- नारियल की गिरी में बादाम, अखरोट और मिश्री मिलाकर सेवन करने से याददाश्त बढ़ती है। नारियल के तेल में नींबू का रस मिलाकर बालों में लगाने से रूसी से छुटकारा मिलता है।

- नींबू में नारियल तेल मिला कर लगाया जाए तो यह बालों का झड़ना रोक देता है। नींबू के रस को अरण्डी का तेल या जैतून का तेल मिला कर बालों की मसाज करें। फिर1 घंटे के बाद बाल धो लें।

- सुबह खाली पेट प्रतिदिन एक सेब खाने से सिरदर्द की समस्या से छुटकारा मिलता है।

- कीढ़ा लगे दांत में थोड़ा सा हींग भर देने से दांत व दाढ़ का दर्द दूर हो जाता है।

- त्रिफला चूर्ण चार ग्राम (एक चम्मच भर) को 200 ग्राम हल्के गर्म दूध या गर्म पानी के साथ लेने से कब्ज दूर होता है।

- प्याज के बीजों को सिरका में पीसकर दाद-खाज और खुजली वाले स्थान पर लगाने से तुरंत आराम मिलताहै।

- सौंफ ,जीरा और धनियां सब 1-1 चम्मच लेकर 1 गिलास पानी में उबालकर काढ़ा बनाएं। आधा गिलास पानी बच जाने पर उसमें एक चम्मच गाय का घी मिलाएं। सुबह-शाम पिएं खूनी बावासीर से रक्त गिरना बंद हो जाता है।

- बुखार की वजह से जलन होने पर पलाश के पत्तों का रस लगाने से जलन का असर कम हो जाता है।

- जीरे को मिश्री की चाशनी बनाकर उसमें या शहद के साथ लेने पर पथरी घुलकर पेशाब के साथ बाहर निकल जाती है।

- करी पत्तों को सुबह खाली पेट खाएं। तीन महीनों तक नियमित रूप से ये प्रयोग करने पर डायबिटीज कंट्रोल में रहती है और मोटापा घटने लगता है।

- सेव काटकर टुकड़े तैयार कर लें। इन टुकड़ों को कप या छोटी कटोरी में डालकर कार की सीट्स के नीचे पलोर पर रख दें। एक दो दिन में ये टुकड़े सिकुड़ जाएंगे। एक बार फिर यही प्रक्रिया दोहराएं, धीरे- धीरे गंध दूर हो जाएगी।

- नींबू के रस में थोड़ी चीनी मिलाकर इसे गर्म कर सिरप बना लें। इसमें थोड़ा पानी मिलाकर पीएं। पित्त के लिए यह अचूक औषधि है।

No comments:

Post a Comment