Saturday, April 26, 2014

मुंह के छालों से बचने के घरेलू उपचार –

शहद में मुलहठी का चूर्ण मिलाकर इसका लेप मुंह के छालों पर करें और लार को मुंह से बाहर टपकने दें।
मुंह में छाले होने पर अडूसा के 2-3 पत्तों को चबाकर उनका रस चूसना चाहिए।
छाले होने पर कत्था और मुलहठी का चूर्ण और शहद मिलाकर मुंह के छालों पर लगाने चाहिए।
अमलतास की फली मज्जा को धनिये के साथ पीसकर थोड़ा कत्था मिलाकर मुंह में रखिए। या केवल अमलतास के गूदे को मुंह में रखने से मुंह के छाले दूर हो जाते हैं।
अमरूद के मुलायम पत्तों में कत्था मिलाकर पान की तरह चबाने से मुंह के छाले से राहत मिलती है और छाले ठीक हो जाते हैं।
सूखे पान के पत्ते का चूर्ण बना लीजिए, इस चूर्ण को शहद में मिलाकर चाटिए, इससे मुंह के छाले समाप्त हो जाएंगे।
पान के पत्तों का रस निकालकर, देशी घी में मिलाकर छालों पर लगाने से फायदा मिलता है और छाले समाप्त हो जाते हैं।
नींबू के रस में शहद मिलाकर इसके कुल्ले करने से मुंह के छाले दूर होते हैं।
ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी का सेवन कीजिए, इससे पेट साफ होगा और मुंह के छाले नहीं होंगे।
मशरूम को सुखाकर बारीक चूर्ण तैयार कर लीजिए, इस चूर्ण को छालों पर लगा दीजिए। मुंह के छाले ठीक हो जाएंगे।
मुंह के छाले होने पर चमेली के पत्तों को चबाइए। इससे छाले समाप्त हो जाते हैं।
छाछ से दिन में तीन से चार बार कुल्ला करने से मुंह के छाले ठीक होते हैं।
खाना खाने के बाद गुड चूसने से छालों में राहत होती है।

Wednesday, April 23, 2014

वास्तु निर्माण के कुछ सामान्य नियम

प्राचीन एवम सर्वमान्य संहिता व वास्तु ग्रंथो में प्रतिपादित कुछ शास्त्रीय वास्तु नियमों का उल्लेख किया जाता है | वास्तु निर्माण में इनका प्रयोग करने पर वास्तु व्यक्ति के लिए सब प्रकार से शुभ ,समृद्धि कारक एवम मंगलदायक होता है |आजकल के तथाकथित वास्तु शास्त्रियों द्वारा जनसाधारण को व्यर्थ के बहम में डालने वाले तथा अपने ही गढे हुए नियमों पचडे में न पड़ कर केवल इन्हीं शास्त्रीय नियमों का पालन करने पर वास्तु सब प्रकार से शुभ होता है।
भूमि

पूर्व ,उत्तर ,ईशान दिशाओं में झुकी भूमि शुभ होती है |
नदी के समीप ,बाम्बी वाली ,फटी , मन्दिर या चौराहे के निकट की भूमि आवास के लिए शुभ नहीं होती |
निर्माणाधीन भूखंड में से कोयला,अस्थि ,केश ,भस्म, भूसा ,कपास एवम चमड़ा आदि शल्य निकाल देने चाहियेंअन्यथा गृह वासिओं को कष्ट प्रदान करते हैं |
गृह निर्माण में वास्तु शास्त्र में वर्णित किसी एक ही वृक्ष की लकड़ी का प्रयोग हो तो शल्य दोष नहीं होता |
गृह निर्माण में शीशम ,खैर ,देवदार ,सागवान ,चंदन आदि वृक्षों की लकड़ी का प्रयोग करें ।
नवीन गृह में पुराने घर की लकड़ी का प्रयोग अशुभ फल दायक है |
वास्तु का आकार

वर्गाकार तथा आयताकार भूखंड जिनके चारों कोण ९०-९० अंश के हों वास्तु के लिए शुभ होते हैं |
जितने भूखंड पर निर्माण किया जाना है ,उसकी लम्बाई ,चौडाई से दुगनी या अधिक नहीं होनी चाहिए |
भूखंड असमान भुजाओं या कोण का हो तो आस-पास जगह छोड़ कर गृह निर्माण वर्ग या आयत में ही करें | खालीजगह पर उद्यान -वनस्पति लगायें |
निर्माणाधीन भूखंड को दिक् शुद्ध अवश्य कर लें ,तभी वास्तु पुरूष के पूर्ण अंग वास्तु में आयेंगे तथा गृहस्वामी कोसुख,धन धान्य यश एवम समृद्धि प्राप्त होगी |
किस स्थान पर क्या बनायें

गृह के पूर्वी भाग में या उत्तरी भाग में जल का स्थान रखें |
आग्नेय कोण में रसोई घर बनवाएं |
शयन कक्ष को गृह के दक्षिणी भाग में निश्चित करें |
भोजन करने का स्थान पश्चिम दिशा में होना चाहिए |
पूजा गृह ईशान कोण में अधिक शुभ रहता है |
शौचालय नै ऋ त्य दिशा में बनवाएं |
नैऋत्य एवम पश्चिम दिशा के मध्य अध्ययन कक्ष शुभ रहता है |
सीढ़ी उत्तर या पश्चिम में शुभ हैं ,विषम संख्या में हों तथा सदैव दा ऍ ओर मुडती हों |ऊपर पूर्व या दक्षिण की ओरखुलती हों
गृह के प्रथम खंड में सूर्य किरण तथा वायु का आना बहुत शुभ होता है |
मुख्य द्वार

१५हाथ ऊँचा ,८ हाथ चौडा उत्तम एवम १३ हाथ ऊँचा ७ हाथ चौडा मध्यम कहा गया है |
मुख्य द्वार के सामने कोई वृक्ष ,स्तंभ ,मन्दिर ,दिवार का कोना ,पानी का नल ,नाली ,दूसरे घर का द्वार तथा कीच हो तो वेध करता है |
गृह की ऊंचाई से दुगनी दूरी पर वेध हो या गृह राजमार्ग पर स्थित हो तो वेध नहीं होता |
वास्तुराज वल्लभ के अनुसार सिंह -वृश्चिक -मीन राशिः वालों के लिए पूर्व दिशा में ,कर्क -कन्या -मकर राशिःवालों के लिए दक्षिण ,मिथुन -तुला -धनु राशिः वालों के लिए पश्चिम एवम मेष -वृष - कुम्भ राशिः वालों के लिएउत्तर दिशा में मुख्य द्वार बनवाना शुभ होता है |
वराह मिहिर के अनुसार जिस दिशा में मुख्य द्वार रखना है भूखंड की उस भुजा के बराबर आठ भाग करें ,पूर्वीदिशा में बांयें से तीसरा व चौथा भाग ,दक्षिण दिशा में केवल चौथा भाग ,पश्चिमी दिशा व उत्तरी दिशा में तीसराचौथा -पांचवां भाग मुख्य द्वार के निर्माण के लिए शुभ होता है |
- अन्य दोष निवारक वास्तु नियम

गृह में प्रवेश करते समय गृह का पृष्ठ भाग दिखना शुभ नहीं होता |
उत्तर एवम पश्चिम दिशा में रोशनदान शुभ नहीं होते |
पंचक नक्षत्रों में घर के लिए लकड़ी मत खरीदें |
घर के सभी द्वार एक सूत्र में होने चाहियें ,ऊपर की मंजिल के द्वारों किउंचाई नीचे के द्वारों से द्वादशांश छोटी होनी चाहिये | गृह के द्वार अपने आप ही खुलते या बंद होते हो तो अशुभ है । गृह क द्वार प्रमाण से अधिक लम्बे हो तोरोग कारक तथा छोटे हो तो धन नाशक होते है । गृह द्वार पर मधु का छत्ता लगे या चौखट, दरवाजा गिर जाये तोगृह पति को कष्ट होता है । घर में चौरस स्तम्भ बनवाना शुभ होता है तथा गोल स्तम्भ बनवाना अशुभ ।
गृह वृद्धि चारो दिशाओ में समान होनी चाहिये । केवल पूर्वी दिशा में वृद्धि करने पर मित्र से वैर ,उत्तर में चिंता , पश्चिम में धन नाश तथा दक्षिण में क्षत्रु भय होता है ।
द्वार उपर के भाग मई आगे घुका हो तो संतान नाशक होता है ।
घर मई कपोत , गिद्ध , वानर , काक तथा भयानक चित्र शुभ नही होते ।
घर के उद्यान में अशोक, निम्बू ,अनार ,चम्पक , अंगूर , पाटल , नारियल ,केतकी ,शमी आदि वृक्षो का लगाना शुभहै।
घर के उद्यान में हल्दी , केला , नीम , बेहडा ,अरंड तथा सभी कांटे दार एवं दूध वाले वृक्ष लगाने का निषेध है ।
मुख्य द्वार पर स्वास्तिक , गणेश , कलश, नारियल ,शंख ,कमल आदि मंगलकारी चिह्नों को अंकित करने से गृह के दोषों का निवारण होता है ।
नवीन गृह में प्रवेश से पूर्व वास्तु पूजा तथा श्री रामचरितमानस का पाठ करने से समस्त वास्तुजनित दोष दूर हो जाते है ।


// वास्तु निर्माण के कुछ सामान्य नियम //

घर के किसी भी तरफ सड़क हो, मकान निर्माण के कुछ सामान्य नियम अपनाकर मकान का वास्तु-शास्त्र के अनुसार निर्माण किया जा सकता है और इस प्रकार के निर्माण से लाभ उठाया जा सकता है । मकान निर्माण के कुछ नियम नीचे दिये गये हैं ः-
सामान्य नियम ः
1, घर के उत्तर और पूर्व में ज्यादा खाली जगह तथा दक्षिण और पशिचम में कम खाली जगह छोड़ें ।
2. घर में कुऑं या बोरिंग उत्तर पूर्व में ही होनी चाहिये । जमीन के अंदर पानी की टंकी होने पर यह भी इस तरफ ही हो ।
3. सेप्टिक टैंक सिर्फ उत्तर पूर्व के ठीक बीच में ही हो । अन्य किसी दिशा में होने पर दुष्परिणाम होंगे ।
4. पानी की टंकी जमीन के ऊपर होने पर यह दक्षिण पशिचम में मकान के ऊपर ही रखें । मकान में सबसे ऊँचा निर्माण दक्षिण पशिचम में ही होना चहिए ।
5. ढाल बरामदा रखने पर यह ईस्ट या नार्थ की तरफ ही हो किसी भी हालत में वेस्ट और साउथ में नहीं होने चहिए ।
6. चबूतरा बनवाना हो तो यह सिर्फ साउथ और वेस्ट दिशाओं में ही हो क्योंकि यह निर्माण मकान के फर्श से उँचा होगा ।
7. चारदीवारी होन पर उसकी उंचाई ईस्ट और नार्थ में कम तथा वेस्ट और साउथ में ज्यादा हो ।
8. मकान की दीवारें सदैव सीधी होनी चाहिऐ ।
9. घर में इस्तेमाल किया हुआ और बरसात का पानी नार्थ-ईस्ट से ही बाहर जाना चाहिये । ऐसा न हो सकने पर सारा पानी नार्थ-ईस्ट में जमा करके फिर किसी भी दिशा (साउथ-वेस्ट को छोड़कर) से बाहर निकाल सकते हैं ।
10. ईस्ट और नार्थ की ओर बड़े पेड़, बड़ी इमारतें या पहाड़ नहीं होने चाहिये, यह सिर्फ वेस्ट और साउथ में ही होने चाहिए ।
11. इस्ट और नार्थ में सड़क होने पर यह मकान के नीचे तल में ही हो ।
12. जगह के ईस्ट तथा नार्थ में तालाब, नाला आदि का होना शुभ है ।
13. मकान की दीवारें हमेशा सीधी हों ।
14. रसोई सदैव साउथ-ईस्ट या नर्थ-वेस्ट में ही रखें ।
15. घर का भारी सामान जैसे अलमारी, स्टोर रूम, पानी की टंकी सदैव साउथ-वेस्ट में ही रखनी चाहिऐ ।
16. घर के नार्थ-ईस्ट में कम वजन व हल्का सामान रखें ।
17. घर की छत पर दूसरी मंजिल बनाने पर वह सिर्फ साउथ और वेस्ट की तरफ ही बनाएें या पूरी छत पर निर्माण होना चाहिये ।
18. घर व छत के फर्श का ढाल साउथ से नार्थ या वेस्ट से ईस्ट की तरफ हो तो निवासी सुखी रहेंगे ।
19. मकान मालिक के सोने का कमरा साउथ-वेस्ट में तथा बच्चों का कमरा नार्थ-वेस्ट में शुभ है ।
20. चारदीवारी होने पर, इससे जुड़ते हुए किसी भी तरह का निर्माण न करें । चारदीवारी के अन्दर चारों तरफ खाली जगह छोड़कर ही मकान का निर्माण करें ।
21. घर की चारदीवारी के किसी कोने पर निर्माण करना अनिवार्य हो तो पूरी चारदीवारी पर ही निर्माण करें । साथ ही घर की दीवार से हटकर कमरों का निर्माण करें ।
22. घर के मुख्य द्वार के सामने नार्थ और ईस्ट में पेड़ नहीं होने चाहिए।
23. घर का कोई कोना या बॉलकॉनी गोल न बनायें । उसे सीधा रखें तो वास्तु दोष नहीं लगेगा ।
24. किसी प्लॉट में दिशायें कोनों पर आयें तो ऐसे प्लॉट को विदिशा प्लाट कहा जाता है इस दशा में मकान निर्माण में ऊपर दिये गये सामान्य नियम ही प्रभावी होंगे ।
25. विदिशा प्लॉट होने पर नार्थ-ईस्ट को छोड़कर और किसी भी तरफ ढाल बरामदा नहीं होना चाहिए ।
26. घर के मध्य भाग को ब्रह्मस्थान कहते हैं । इस स्थान पर किसी तरह का निर्माण जैसे दीवार, सीढ़ी, गड्ढा नहीं होना चाहिए ।
27. ईस्ट, नार्थ, नार्थ-ईस्ट की तरफ मलवा व कूड़ा-करकट इत्यादि न डालें ।

Wednesday, April 16, 2014

धन जोड़ने के उपाय

1.जिस घर में नियमितरूप से अथवाप्रत्येक शुक्रवार को श्रीसूक्त अथवाश्री लक्ष्मी सूक्त का पाठहोताहै वहां माँ लक्ष्मी का स्थाई वास होता है| 2.पर्त्येक सप्ताह घर में फर्श पर पोचा लगते समय थोडा सा समुंदरी नमक मिला लिया करें ऐसा करने से घर में होने वाले झगरेकमहोतेहैं इसकेअतिरिक्तयहभीलाभमिलताहै आपकोनहींमालूमकी आपकेघरमें आनेवालाअतिथिn कहाँसे आयाहै,तथाउसकेमनमें आपकेप्रति क्या विचारहै,नमकमिलेपानीसे पोचालगानेसे सारीनकारात्मक उर्जा समाप्त हो जाती है|
3.प्रात: उठ करगृह लक्ष्मी यदि मुख्यद्वार पर एक गिलास अथवा लोटा जल डाले तो माँ लक्ष्मी के आने कामार्ग प्रशस्त होता है| यदि आपचाहतेंहैंकि घरमें सुख शांतिबनीरहे तथाआपआर्थिक रूपसे समर्थ रहें तोप्रत्येक अमावस्याकोअपने घर की पूर्ण सफाई करवा दें|जितना भी फ़ालतू सामान इकठा हुआ हो उसे क्बारी को बेच दें अथवा बाहर फेंक दें ,सफाई के बाद पांच अगरबती घर के मंदिर में लगायें|
4.यदि आप प्रत्येक पूर्णिमा हवन कर सकें तो बहुत ही शुभ है |इसके लिए यदि आपको कोई मन्त्र नहीं आता है तो सिर्फ इतनाकरें की किसी कंडे(गोहा)अथवा उपलेपर अग्नि प्रजव्लित कर ॐ के उच्चारणसे १०८ आहुति दें|यह आपकी धार्मिक भावना को जताता है|
5.महीने में दो बार किसी भी दिन उपले पर थोड़ी सी लोबान रख कर उसके धुएं को पूरे घर में घुमाएं|
6.यदि आप के पूजा काल में कोई मेहमान आता है तो यह बहुत शुभ है,इस समय उस मेहमान को जल पान अवश्य करवाएं| यदि संध्या काल की पूजा मेंकोई सुहागिन स्त्री आती है तो आपका बहुत ही सोभाग्यहै|आप यह समझें की आपकेघर माँ लक्ष्मी का परवेश हो चूका है| आपकी साधनाअर्थात पूजा काल में कोई बच्चा रोता है तो यह आपके लिए शुभ नही है|इसके लिए आप ज्ञानी व्यक्ति से संपर्क कर पतालगायेंकी क्या वजहहै|इसकासामान्यकारन यह होसकताहै कीआपकेघरमें कोई नकारात्मक शक्ति अवश्य है|
7.आपके निवासमें अग्नेकोण(पूर्व वहदक्षिण काहोना)मेंयदिगलतीसे कोईपानीकी वयवस्थाहोगयीहै तो यह वास्तु शास्त्र के अनुसार बहुत बड़ा दोष है|इसके लिए आप उस स्थान पर चोबीस घंटे एक लाल बल्ब जलता रहने दें|शाम
को उस स्थान पर एक दीपक अवश्य रखें|
8.घर में कभी नमक किसी खुले डीबे में न रखें| घर के जितने भी दरवाजे हों उनमें समय समय पर तेल अवश्य डालते रहना चाहिए|उनमें से किसी भी प्रकार कीआवाज़ नही आनी चाहिए| 9.कभी भी किसी को दान दें तो उसे घर की देहली में अन्दर न आने दें,दान घर की देहली के अन्दर से ही करें|
10.यदि नियमित रूप से घर की प्रथम रोटी गाय को तथा अंतिम रोटी कुते को दें तो आपके भाग्य के द्वार खोलने से कोई नही रोक सकता|
11.आप अपने निवास में कुछ कच्चा स्थान अवश्य रखें|यदि संभव हो तो यह घर के मध्य स्थान में रखें| यदि यहाँ तुलसी का पौधा लगा है तो फिर आपके कार्यों में कोई भी रूकावट नही आ सकती|
12.आपयदि अपनेव्यस्त जीवनमें गुरूवार को केलेके वृक्ष पर सदाजलअर्पित कर घी का दीपकतथाशनिवार को पीपल के वृक्ष में गुड,दूध मिर्षित जल वह सरसों के तेल का दीपक अर्पित करें तो कभी भी आर्थिक रूप से परेशान नही होंगे| आर्थिक सम्पनता के लिए आप नियम बना लें की नित्य ही किसी भी पीपल के दरखत में जल अवश्य दें|

कर्म

* कर्मवाद का सिद्धांत भारतीय दर्शन का विशिष्ट सिद्धांत है। 

* संसार में कोई भी, किसी को सुख-दुख देने वाला नहीं है। किसी को किसी ने सुख-दुख दिया है, यह मात्र कुबुद्धि है।

* जैसा शुभ-अशुभ कर्म व्यक्ति करेगा, उसे अवश्य ही फल भोगना पड़ेगा। 

* प्रत्येक देहधारी प्राणी को अपने कर्म तो भोगने ही पड़ते हैं। चाहे वह ज्ञानी हो या मूर्ख। अंतर इतना ही है कि ज्ञानी अपने मन को ज्ञान से समझकर उनका हंसते हुए भोगता है और मूर्ख रोता हुआ भोगता है।

* जैसा कर्म भोग होता है, व्यक्ति को वैसा ही साधन, बुद्धि, सहायक एवं स्थान प्राप्त हो जाता है। अपने कर्म का जिम्मेदार जीवात्मा स्वयं ही है।

कुछ आसान से उपाय,जो बेहद फायदेमंद हैं .....

1. हर पूर्णिमा को सुबह पीपल के वृक्ष पर जल चढ़ाएं।
2. तुलसी के पौधे पर गुरुवार को पानी में थोड़ा दूध डालकर चढ़ाएं।
3. यदि आपको बरगद के पेड़ के नीचे कोई छोटा पौधा उगा हुआ नजर आ जाए तो उसे उखाड़कर अपने घर में लगा दें।घर से बुरी नज़र दूर रहेगी ।
4. गूलर की जड़ को कपड़े में बांधकर उसे ताबीज में डालकर बाजु पर बांधे।
5. पीपल के वृक्ष की छाया में खड़े होकर लोहे के पात्र में पानी लेकर उसमें दूध मिलाकर उसे पीपल की जड़ में
डालने से घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है और घर में लक्ष्मी का स्थाई निवास होता है।
6. धन समृद्धि की देवी लक्ष्मी को प्रति एकादशी के दिन नौ बत्तियों वाला शुद्ध घी का दीपक लगाएं।
7. घर के मुख्य प्रवेश द्वार पर तांबे के सिक्के को लाल रंग के नवीन वस्त्र में बांधने से घर में धन, समृद्धि का आगमन होता है।
8. शनिवार के दिन कृष्ण वर्ण के पशुओं
को रोटी खिलाएं।

Saturday, April 12, 2014

गायत्री मंत्र से करें शिव आराधना

भगवान शिव सृष्टि के संहारकर्ता हैं। सृष्टि के र‍चयिता ब्रह्मा पालनकर्ता, श्री हरि विष्णु कल्याण करने वाले देवता हैं। ऐसी वेद, पुराण एवं विद्वानों की मान्यता है एवं सृष्टि का संचालन होता है। मनुष्य प्रभु की आराधना किसी भी रूप में करता चला आ रहा है। भारतीय मनुष्य शिव को कई रूपों में भजता है, पूजता है और मनाता है।

भगवान रुद्र साक्षात महाकाल हैं। सृष्टि के अंत का कार्य इन्हीं के हाथों है। सारे देव, दानव, मानव, किन्नर शिव की आराधना करते हैं। मानव के जीवन में जो कष्ट आते हैं, किसी न किसी पाप ग्रह के कारण होते हैं। भगवान शिव को सरल तरीके से मनाया जा सकता है। शिव को मोहने वाली अर्थात शिव को प्रसन्न करने वाली शक्ति 'गायत्री' (गायत्री मंत्र) है जो महाकाली भी कहलाती हैं।

जातक को यदि जन्म पत्रिका में कालसर्प, पितृदोष एवं राहु-केतु तथा शनि से पीड़ा है अथवा ग्रहण योग है जो जातक मानसिक रूप से विचलित रहते हैं जिनको मानसिक शांति नहीं मिल रही हो तो उन्हें भगवान शिव की गायत्री मंत्र से आराधना करना चाहिए।



क्योंकि कालसर्प, पितृदोष के कारण राहु-केतु को पाप-पुण्य संचित करने तथा शनिदेव द्वारा दंड दिलाने की व्यवस्था भगवान शिव के आदेश पर ही होती है। इससे सीधा अर्थ निकलता है कि इन ग्रहों के कष्टों से पीड़ित व्यक्ति भगवान शिव की आराधना करे तो महादेवजी उस जातक (मनुष्य) की पीड़ा दूर कर सुख पहुँचाते हैं। भगवान शिव की शास्त्रों में कई प्रकार की आराधना वर्णित है परंतु शिव गायत्री मंत्र का पाठ सरल एवं अत्यंत प्रभावशील है।

मंत्र निम्न है :-

'ॐ तत्पुरुषाय विदमहे, महादेवाय धीमहि तन्नो रुद्र: प्रचोदयात्।'

इस मंत्र का विशेष विधि-विधान नहीं है। इस मंत्र को किसी भी सोमवार से प्रारंभ कर सकते हैं। इसी के साथ सोमवार का व्रत करें तो श्रेष्ठ परिणाम प्राप्त होंगे।

शिवजी के सामने घी का दीपक लगाएँ। जब भी यह मंत्र करें एकाग्रचित्त होकर करें, पितृदोष, एवं कालसर्प दोष वाले व्यक्ति को यह मंत्र प्रतिदिन करना चाहिए। सामान्य व्यक्ति भी करे तो भविष्य में कष्ट नहीं आएगा। इस जाप से मानसिक शांति, यश, समृद्धि, कीर्ति प्राप्त होती है। शिव की कृपा का प्रसाद मिलता है।

विशेष : कोई भी आराधना सच्चे मन से करें तो सफलता अवश्य मिलेगी।