Friday, September 20, 2013

केमद्रुम योग

जन्म कुंडली में जब चंद्रमा से आगे-पीछे दोनों घर खाली हों, तो केमद्रुम योग बनता है। यह एक अशुभ योग है। इस योग वाले को धन की कमी रहती है। यद्यपि बृहस्पति केंद्र में होने पर यह योग भंग हो जाता है। लेकिन बाल्यकाल में इस योग का अशुभ फल देखने में अधिक आता है।
जिन लोगों की कुंडली में यह योग हो, वे यह उपाय करके लाभांवित हो
सकते हैं:-
1 जिस दिन सोमवार को पूर्णिमा हो या सोमवार को चित्रा नक्षत्र हो, उस दिन से लगातार चार वर्ष तक पूर्णिमा का व्रत रखें।
2 सोमवार के दिन शिवलिंग पर गाय का कच्चा दूध चढ़ाएं।
3 शिव-पार्वती का पूजन करें।
4 घर में दक्षिणावर्ती शंख स्थापित करें। इसके सम्मुख प्रतिदिन श्रीसूक्त का पाठ करें। दक्षिणावर्ती शंख के जल से मां लक्ष्मी की मूर्ति को स्नान कराएं।
5 चांदी के श्रीयंत्र में मोती जड़वाकर लॉकेट धारण करें।
6 रूद्राक्ष की माला से शिवपंचाक्षरी मंत्र "ú नम: शिवाय" का जप करने से केमद्रुम योग के अशुभ फल कम होते हैं।

No comments:

Post a Comment