Monday, May 2, 2011

इस दिन कोई नया काम शुरू किया तो?


सामान्यत: किसी भी उत्सव या कार्यक्रम पर हम नई ड्रेस पहनते हैं। ऐसा कोई अवसर यदि शनिवार को आ रहा हो तो उस दिन नई ड्रेस न पहनें। शनिवार ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सबसे अधिक क्रूर और अशुभ समझे जाने वाले ग्रह शनि का दिन है।

शनिवार के दिन कोई नया कार्य न प्रारंभ करने पर भी जोर दिया जाता है। मान्यता है कि इस कार्य प्रारंभ करने पर वह कार्य बड़ी परेशानियों के साथ पूरा होता है तथा उस कार्य में सफलता मिलना बहुत कठिन हो जाता है। इस दिन कहीं बाहर यात्रा पर जाना भी वर्जित किया गया है।

क्रूर ग्रह शनि गरीबों और न्याय का प्रतिनिधित्व करता है। वहीं राहु और केतु को शनि के अधिन माना गया है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि अशुभ स्थान पर है तो शनि सहित राहु-केतु भी उसके जीवन में कई परेशानियां खड़ी कर देते हैं।

शनि अशुभ होने पर शनिवार को नया कार्य शुरू करने पर शनि का बुरा प्रभाव और अधिक बढ़ जाता है। ऐसे में शनि को अनुकूल करने के लिए निम्न उपाय करें-

- शनिवार को सुंदरकांड या हनुमान चालिसा पाठ करें।

- हनुमानजी को सिंदूर और चमेली का तेल अर्पित करें।

- पीपल के वृक्ष पर जल चढ़ाकर सात परिक्रमा करें।

- शनिवार को काले या नीले रंग के कपड़े कतई न पहने।

- शनिवार को किसी गरीब को काला कंबल दान करें।

- अपनी जेब में हमेशा एक चांदी का टुकड़ा रखें।

- बहते पानी में नारियल और बादाम प्रवाहित करें।

- सिक्का, जौ, सरसों एवं राहु की वस्तुओं को जल में प्रवाहित करें या दान करें।

- शनिवार को सीधे हाथ की मध्यमा अंगुली (मीडिल फिंगर) में काले घोड़े की नाल का छल्ला पहनें।

No comments:

Post a Comment