Wednesday, January 12, 2011

KRISHNA

धूरि भरे अति शोभित श्याम जू तैसी बनी सिर सुन्दर चोटी
खेलत खात फिरैं अंगना पग पैंजनिया कटि पीरी कछौटी
वा छवि को रसख़ान विलोकत वारत काम कलानिधि कोटी
काग के भाग कहा कहिए हरि हाथ सों ले गयो माखन रोटी


मोरपखा सिर ऊपर राखिहौं, गुंज की माल गरे पहिरौंगी।
ओढ़ि पितम्बर लै लकुटी, बन गोधन ग्वारन संग फिरौंगी।।
भावतो मोहि मेरो रसखान, सो तेरे कहे सब स्वाँग भरौंगी।
या मुरली मुरलीधर की, अधरान धरी अधरा न धरौंगी।।

No comments:

Post a Comment